नेशनल

एडीबी वार्षिक बैठक: जापानी बैंक के साथ भारतीय शिष्टमंडल की बातचीत

आर्थिक मामले विभाग (डीईए) के सचिव एस सी गर्ग ने कल मनीला में एशियाई विकास बैंक (एडीबी) की 51वीं वार्षिक बैठक के पूर्ण सत्र में भारत की तरफ से भाग लिया और एडीबी की कार्यनीति 2030 का स्वागत किया। गर्ग वर्तमान में एडीबी की 51वीं वार्षिक बैठक में भारतीय शिष्टमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं। सभी गर्वनरों ने अपनी युक्तियां प्रस्तुत कीं।


उन्होंने यह भी कहा कि कार्यनीति में पश्चिम एशिया और दक्षिण एशिया पर अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए क्योंकि पूर्वी एशिया पहले ही अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। गर्ग ने इस पर भी जोर दिया कि एडीबी के निजी क्षेत्र ऑपरेशनों को बढ़ाया जाना चाहिए और इक्विटी भागीदारी पर फोकस किया जाना चाहिए, जैसाकि कार्यनीति में वर्णित है।

 

गर्ग ने गर्वनरों के बोर्ड के उद्घाटन सत्र में भी हिस्सा लिया जिसके बाद बिजनेस सत्र का आयोजन किया गया। बिजनेस सत्र के दौरान गर्ग ने गरीबी उन्मूलन, गुणवत्तापूर्ण रोजगार एवं सामाजिक क्षेत्रों के लिए बढ़े हुए समर्थन के लिए एडीबी की सराहना की और ढांचागत क्षेत्र के विकास के प्रति अपना संकल्प दुहराया।


एडीबी के समावेशी विकास को समर्थन देने के संकल्प का स्वागत करते हुए गर्ग ने सदस्य देशों की विशिष्ट जरुरतों एवं प्राथमिकताओं को पूरा करने के लिए नवोन्मेषी वित्तपोषण माध्यमों को विकसित करने की आवश्यकता रेखांकित की।

 

भारतीय शिष्टमंडल ने अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए जापान के बैंक के साथ भी द्विपक्षीय बातचीत की तथा विभिन्न प्रकार के द्विपक्षीय मुद्वों पर चर्चा की।

News & Event

Tazaa Khabre