बिज़नेस

आरयूजे और एसआरएम के संयुक्त संयंत्र का उद्घाटन

भारत के आरयूजे समूह ने स्विट्जरलैंड की एसआरएम टेक्नोलॉजीज एजी के साथ संयुक्त उद्यम में स्विस प्रीसिशन एंड असेंबली प्लांट का उद्घाटन किया है। किसी भारतीय प्लांट में यह पहली तरह की अत्याधुनिक स्विस प्रीसिशन एंड असेंबली यूनिट होगी। स्विस कंपनी एसआरएम यह अत्याधुनिक तकनीक उपलब्ध कराएगी। इस संयंत्र की उत्पादन क्षमता 5650 एमटी प्रति वर्ष होगी। साथ ही यह योजना रोजगार देने के मामले में अग्रणी साबित होगी। इस इकाई के जरिए  250 कर्मचारियों को रोजगार दिया जाएगा।

 

इस संयंत्र में 300 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। इस संयंत्र की सबसे खास बात यह होगी कि स्विट्जरलैंड से मिले ऑर्डर भारतीय विनिर्माण इकाई में तैयार होंगे, इसके बाद तैयार ऑर्डर को एक्पोर्ट किया जाएगा।  इस संयंत्र में 300 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। इस संयंत्र की सबसे खास बात यह होगी कि स्विट्जरलैंड से मिले ऑर्डर भारतीय विनिर्माण इकाई में तैयार होंगे, इसके बाद तैयार ऑर्डर को एक्पोर्ट किया जाएगा।

 

इस पहल को सार्थक व असरदार बनाने के लिए स्विट्जरलैंड आधारित वैज्ञानिक डॉ. राजेंद्र जोशी व उनकी पत्नी उर्सुला जोशी ( आरयूजे समूह ) ने जयपुर, राजस्थान में स्विट्जरलैंड आधारित कंपनी के संयुक्त उद्यम में ’स्विस प्रीसिशन एंड असेबली’ यूनिट की स्थापना की है। यह भारत की अपने आप में पहली इतनी उच्च तकनीक वाली उद्यम योजना होगी

 

आरयूजे एंड एसआरएम मैकेनिक्स ( संक्षेप में, आरएस इंडिया ) राजेंद्र एंड उर्सुला जोशी स्किल डेवलपमेंट प्राइवेट लिमिटेड व एक स्विस कंपनी एसआरएम टेक्नोलॉजीज एजी का संयुक्त उद्यम है। आरएस इंडिया का  लक्ष्य है विनिर्माण उद्योग को मैटल एनोडाइजिंग, पेंटिंग व हीट ट्रीटमेंट, आदि के मूल्यवर्धन समेत उच्च परिशुद्धतापूर्ण धातु के पुर्जों की उनकी जरूरत के लिए सर्वश्रेष्ठ समाधान मुहैया कराना। 

 

इसका लक्ष्य है स्वास्थ्य एवं चिकित्सा, आटोमोटिव, पौलीमैकेनिकल, मशीन आटोमेशन, लैबोरेटरी तकनीक, फोटो तकनीक व एयरोस्पेस, आदि जैसे क्षेत्रों को विनिर्माण समाधान  मुहैया कराना जहां अंतिम उत्पाद में हाई प्रीसिशन पार्ट्स की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 

News & Event