Headlines

नेशनल

वस्तु एवं सेवा निर्यात में 12 प्रतिशत से भी अधिक की वृद्धि: सुरेश प्रभु

वाणिज्यिक व्यापार की तुलना में सेवा व्यापार में कहीं ज्यादा तेजी से वृद्धि हो रही है और इस तरह के गतिशील बदलाव वैश्विक व्यापार प्रणाली में अवश्य ही परिलक्षित होने चाहिए। यह बात वाणिज्य एवं उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने कही। सुरेश प्रभु नई दिल्ली में आयोजित छठी ग्रोथ नेट समिट में बोल रहे थे जिसे अनंत सेंटर और भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा स्मादजा एंड स्मादजा के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है।

 

मंत्री ने कहा कि वाणिज्यिक व्यापार के विपरीत सेवा व्यापार में लोगों की विभिन्न जगहों पर आवाजाही होती है। उन्होंने कहा कि भारत ने वर्ष 2026-27 तक 5 लाख करोड़ (ट्रिलियन) डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य रखा है और वस्तु एवं सेवा निर्यात को इस राशि का एक ट्रिलियन डॉलर लक्षित किया गया है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष वस्तु एवं सेवा निर्यात में 12 प्रतिशत से भी अधिक की वृद्धि दर्ज की गई।

 

मंत्री ने कहा कि सरकार सेवा निर्यात में उल्लेखनीय वृद्धि के लिए एक व्यापक रणनीति पर काम कर रही है और 12 प्रमुख (चैम्पियन) सेवा क्षेत्रों को बढ़ावा देने के लिए एक अरब डॉलर खर्च किए जाएंगे। पहली बार नए बाजारों में उत्पादों की एक रणनीति विकसित की जा रही है। उन्होंने कहा कि अफ्रीका, लैटिन अमेरिका और मध्य एशिया जैसे क्षेत्रों को निर्यात करने पर भी फोकस किया जा रहा है।

News & Event

Tazaa Khabre