Headlines

बिज़नेस

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अजीम प्रेमजी बने दुनिया के तीसरे सबसे बड़े दानवीर, जैक डॉर्सी और बिल गेट्स पहले और दूसरे नंबर पर
azim premji

आईटी क्षेत्र की दिग्गज सॉफ्टवेयर कंपनी विप्रो के फाउंडर और चेयरमैन अजीम प्रेमजी दुनिया में तीसरे सबसे बड़े दान करने वाले शख्स बन गए हैं।  पहले नंबर पर ट्विटर के जैक डॉर्सी और दूसरे माइक्रोसॉफ्ट के बिल गेट्स के बाद उन्हें तीसरा स्थान हासिल हुआ है। विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने भी कोरोना से लड़ाई में अहम भूमिका निभाई है।

 

अजीम प्रेमजी ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दिल खोलकर दान दिया है। फोर्स मैग्जीन के अनुसार, मार्च के बीच से वह निगाह रखे हुए हैं कि किस अरबपति ने कितनी राशि दान की है।

 

24 जुलाई 1945 में जन्मे अजीम हाशिम प्रेमजी एक भारतीय बिजनेस टाइकून, निवेशक, इंजीनियर ै हैं और अ विप्रो लिमिटेड के अध्यक्ष हैं। उन्हें अनौपचारिक रूप से भारतीय आईटी उद्योग का सिज़्ार कहा जाता है। वे पिछले चार दशकों से विप्रो को नई ऊंचाइयों पर पहुंचा रहे हैं। आईटी और सॉफ्टवेयर उद्योग में वह एक बड़े लीडर के रूप में जाने जाते हैं।

 

2010 में, उन्हें एशियावीक द्वारा दुनिया के 20 सबसे शक्तिशाली पुरुषों के बीच वोट दिया गया था। उन्हें दो बार (2004, 2011) टाइम्स मैगजीन द्वारा 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में सूचीबद्ध किया गया है, कई वर्षों से उन्हें नियमित रूप से दुनिया के 500 सबसे प्रभावशाली मुस्लिम चुना जा रहा है।

 

वह वर्तमान में अक्टूबर 2019 तक 7.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर की अनुमानित संपत्ति के साथ भारत में दसवें सबसे अमीर व्यक्ति हैं। 2013 में, उन्होंने द गिविंग प्लेज पर हस्ताक्षर करके अपने धन का कम से कम आधा हिस्सा देने पर सहमति व्यक्त की। प्रेमजी ने भारत में शिक्षा पर केंद्रित अजीम प्रेमजी फाउंडेशन को $ 2.2 बिलियन का दान दिया।

 

प्रेमजी के पास स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की डिग्री में विज्ञान स्नातक है। उनकी पत्नी यासमीन और दो रिशद और तारिक हैं। वर्तमान में रिशद आईटी बिजनेस, विप्रो के मुख्य रणनीति अधिकारी हैं।

 

अजीम प्रेमजी अभी तक 132 मिलियन डॉलर दाने दे चुके हैं। दुनियाभर के 2,095 अरबपतियों में से अधिकतर ने अभी दान नहीं किया है और अगर किया भी है तो इस बारे में कोई खुलासा नहीं किया है।

 

News & Event

Tazaa Khabre