Headlines

इंटरनेशनल

जानिए कौन हैं हर्बर्ट डेविड क्लेबर, गूगल ने बनाया है जिनका डूडल
dr herbert kleber

मनोवैज्ञानिक और नशे के उपचार के मसीहा कहे जाने वाले डॉ. हर्बर्ट डेविड क्लेबर का आज गूगल ने अपने वेब पेज पर डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। नेशनल एकेडमी ऑफ मेडिसिन के लिए उनके चुनाव की 23 वीं वर्षगांठ को लेकर गूगल ने उनका डूडल बनाया है। 5 अक्टूबर 2018 को उनका निधन हो गया था। जबकि डॉ. क्लेबर का जन्म 19 जून 1934 को पेंसिल्वेनिया में हुआ था। डॉ. क्लेबर के पिता उन्हें एक डॉक्टर बनाना चाहते थे।

डॉ. क्लेबर ने न्यू हैम्पशायर, संयुक्त राज्य अमेरिका में डार्टमाउथ कॉलेज में पढ़ाई की। दवाओं के अध्यन में उन्होंने काफी लंबी खोज की लेकिन, उनका मन मनोविज्ञान में ही कुछ करने का था। येल विश्वविद्यालय में अपने मनोचिकित्सीय पढ़ाई को पूरा करने के बाद उन्हें केंटकी में सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा करागार यनि जेल अस्पताल में मानसिक रोगियों के इलाज करने का मौका मिला। उन्होंने इसे ही अपने जीवन का एक अहम हिस्सा बना लिया और मनोविज्ञान के क्षेत्र में वह आगे बढ़ते चले गए।  मनोवैज्ञानिक हेरबर्ट क्लेबर को नशीली दवाओं की लत में अग्रणी काम के लिए भी गूगल उनका डूडल बनाता आया है।

डॉ। क्लेबर को नशे की लत के बारे में एक अलग दृष्टिकोण था । उन्होंने नशे को एक नैतिक विफलता के रूप में नहीं देखा, बल्कि एक ऐसी स्थिति के रूप में देखा गया जिसका केवल अनुसंधान, दवा और चिकित्सा के संयोजन से इलाज किया जा सकता था। अपने समय के दौरान केंटकी जेल में कैदियों को नशे की लत का इलाज करने के लिए, डॉ. क्लेबर ने एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण की स्थापना की, जिसे सबूत-आधारित उपचार कहा जाता है ताकि नशे की लत का सफलतापूर्वक इलाज किया जा सके। 46 वर्ष की आयु में डॉ. क्लेबर प्रतिष्ठित नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन के एक निर्वाचित सदस्य चुने गए।

 

News & Event

Tazaa Khabre