Headlines

देश

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल नहीं करेगा सुन्नी वक्फ बोर्ड
sunni waqf board.jpg

लखनऊ, 27  नवंबर (आईएएनएस)| सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड अयोध्या में राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को चुनौती नहीं देगा। लखनऊ में बोर्ड की मंगलवार को हुई बैठक में इस पर मुहर लगा दी गई है।

 इसके अलावा पांच एकड़ जमीन को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है। सुप्रीम कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में कहीं अन्य पांच एकड़ भूमि देने का निर्देश दिया था। उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्फ बोर्ड की बैठक में सात में से छह सदस्य पुनर्विचार याचिका दाखिल करने के पक्ष में नहीं थे। बोर्ड के सदस्यों में से अकेले अब्दुल रज्जाक खान चाहते थे कि पुनर्विचार याचिका दाखिल की जाए।

बोर्ड के चेयरमैन जुफर फारुकी ने मीडिया से कहा कि फैसले का विरोध नहीं किया जाएगा। वहीं, पांच एकड़ जमीन लेने के फैसले पर बोर्ड ने कहा कि "जब हमें ऑफर की जाएगी तब निर्णय लेंगे। अभी इस बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। इसके लिए फिर से बैठक होगी। अभी तारीख तय नहीं है।"

उन्होंने कहा, "पांच एकड़ जमीन पर चर्चा इसलिए नहीं की गई, क्योंकि हमारे सदस्य राय बनाने के लिए अभी और वक्त चाहते हैं। जमीन लेने या न लेने का मुद्दा दूसरे लोगों ने उठाया है, हमने नहीं।"

सुन्नी वक्फ बोर्ड के दस्तावेजों में से बाबरी मस्जिद का नाम हटाने की बात को उन्होंने खारिज किया।

याचिका के पक्ष में सिर्फ रज्जाक रहे और उन्होंने बोर्ड के फैसले को मजाकिया कहा है।

अब्दुल रज्जाक ने कहा, "सरकार जब जमीन का प्रस्ताव देगी, तब निर्णय किया जाएगा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन किया गया है या नहीं। तभी देखेंगे कि इस्लामिक शरीयत के अनुसार जमीन लेना मुनासिब है या नहीं। आज की बैठक में जमीन पर चर्चा ही नहीं की गई।"

मॉल एवेन्यू स्थित सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड कार्यालय में हुई बैठक में बोर्ड के चेयरमैन जुफर फारुकी के साथ अदनान फारुक शाह, खुशनूद मियां, जुनैद सिद्दीकी, मोहम्मद जुनिद और अब्दुल रज्जाक खां थे। इनके अलावा बैठक में सुल्तानपुर से विधायक मोहम्मद अबरार अहमद भी शामिल हुए।

News & Event

Tazaa Khabre