Headlines

विदेश

तालिबान के नरम रुख से सभी हैरान, अमेरिका में ही घिरे बाइडन

अफगानिस्तान में तेजी कब्जा हासिल करने की तरफ बढ़ रहे कट्टरपंथी संगठन तालिबान को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति अपने ही लोगों के निशाने पर आ गए है। विपक्षी दल रिपब्लिकन पार्टी के साथ कई डेमोक्रेट सांसद बाइडन की जमकर आलोचना कर रहे हैं। सैनिकों की वापसी के बाद जिस तरह की तस्वीरें काबुल से आ रही हैं, उनसे सबसे ज्यादा गुस्से में लिबरल डेमोक्रेट सांसद हैं। उनका कहना है कि इससे वह उद्देश्य ही पूरी तरह असफल हो गया, जिसके लिए वहां सैनिकों को भेजा गया था।
 
लिबरल डेमोक्रेट लंबे समय से अफगानिस्तान से सैनिकों को वापस बुलाने की मांग कर रहे थे, लेकिन उन्हें ऐसी स्थिति की उम्मीद नहीं थी। उधर, रिपब्लिकन सांसदों का आरोप है कि राष्ट्रपति बाइडन के फैसले से अमेरिका को अपमानित होना पड़ा है। आपको बता दें अमेरिका के सैनिक वापस अपने देश लौट चुके हैं। हालांकि, अभी बड़ी तादाद में अमेरिकी सैनिकों की मॉजूदगी है।
लेकिन तालिबानियों का पूरे अफगानिस्तान पर वर्चस्व बढ़ता ही जा रहा है। काबुल एयरपोर्ट को छोडक़र तालिबानियों ने मजार ए शरीफ, कंधार जैसे प्रमुख शहरों पर कब्जा कर लिया है। स्थानीय और बाहरी लोग अफगानिस्तान छोडक़र भाग रहे हैं।
 
वहीं तालिबान के सुर बदले से लग रहे हैं। तालिबान ने महिलाओं के प्रति नरम रुख अपनाते हुए सत्ता में शामिल होने का ऑफर दिया है। अफगानिस्तान में तालिबान ने 1996 से 2001 तक शासन के दौरान महिलाओं को अकेले घर से बाहर निकलने पर पाबंदी थी। नौकरी पर रोक थी। बिना पर्दे के घर से बाहर निकलने पर सजा दी जाती थी।
 

News & Event

Tazaa Khabre